acne kaise hataye?

Acne kya hai? acne क्या है?

Acne जिसे आम भाषा में किल मुहांसे कहा जाता है.

डाक्टरों की भाषा में इसे, एक्ने वुल्गारिस (acne vulgaris) कहा जाता है. इस बीमारी में त्वचा के सबसे नीचे मौजूद तेल की ग्रंथियां जब किशोरावस्था शुरू होने के बाद में एड्रीनल ग्रंथि द्वारा प्राप्त हॉर्मोन से तैलीय ग्रंथियां करना शुरू कर देती है, तब एकने या किल मुहांसे जैसी समस्या शुरू हो जाती है.

एकने से त्वचा पर निशान पड़ जाते है, इसीलिए हर उम्र का व्यक्ति इस बीमारी से परेशान हो जाता है.

यह तेल की ग्रंथियां त्वचा के niche स्तिथ होती है और यह त्वचा पर छोटे छोटे रोम छिद्रों से उपरी त्वचा तक खुली रहती है.

एकने कैसे होते है?

त्वचा पर मौजूद यह तेल की ग्रंथियां का काम, मृत कोशिकाओं को त्वचा के ऊपरी सतह पर लाना है. त्वचा पर मौजूद यह छिद्र, तैलीय ग्रंथियों के अधिक सक्रियता यानी अधिक तेल-सीबम के उत्पादन से और छोटे-छोटे बाल(लोम) के पर मौजूद होने पर, ये छोटे-छोटे छिद्र बंद हो जाते है.

जिसके परिणामस्वरूप, त्वचा की ऊपरी परत बंद होजाती है, पर तैलीय ग्रंथियों का उत्पादन होते रहता है जिससे किल-मुहांसे की समस्या उत्पन होती है.

एकने होने के क्या कारण है? acne hone ke kya karan hai?

  • त्वचा रोग के विशेषज्ञों के अनुसार, हॉर्मोन एण्ड्रोजन के कारण एकने/किल-मुहांसे जैसी समस्या आती है. बढ़ते किशोरों में, विकास के दौरान होने वाले बदलाव के कारण त्वचा में तेल ग्रंथियों की मात्र और तेल उत्पादन की क्षमता भी बढती है, जिससे त्वचा के छिद्र बंद हो जाते है.
  • इस क्षेत्र में किये गए अध्ययन के अनुसार, इसके पीछे अनुवांशिक कारण हो भी सकते है. अर्थात अगर आपके परिवार के किसी सदस्य  को इस तरह की समस्या थी या है तो आपको भी यह समस्या होने की सम्भावना है.
  • अगर किसी व्यक्ति का इलाज लिथियम युक्त दवाओं से हो रहा है तो, उसमें भी एक्ने जैसी समस्या देखने को मिल सकती है.
  • ग्रीसी कॉस्मेटिक्स का उपयोग करने से भी एक्ने हो सकता है.
  • गर्भवस्था से सम्बंधित दवाओं के इस्तेमाल से इस तरह की समस्या हो सकती है.

acne/किल-मुहांसें के प्रकार –

त्वचा पर मौजूद किल-मुहाँसें बहुत प्रकार के होते है, जैसे –

वाइटहेड्स– इस प्रकार के एक्ने से सफ़ेद सफ़ेद दानेदार बीज निकलते है और ये आम तौर पर त्वचा के नीचे से निकलते है.

ब्लैकहेड्स– इस प्रकार के एक्ने से काले दानेदार बीज निकलते है.

पैपुल्स– ये त्वचा पर छोटे गुलाबी दानेदार उभार के रूप होते है.

पुस्तुलेस– ये त्वचा पर छोटे दानेदार घेरे में मवाद भरने से होते है और हल्के लाल रंग के होते है.

नोबुल्स– ये चेहरे पर होने वाले बड़े पिम्पले होते है, ये मवाद से भरे हो सकते है या इसमें से आधा ठोश द्रव भरा होता है. ये त्वचा की सबसे निचली परत तक जुड़े होते है.

सिस्ट– ये चेहरे के उपरी त्वचा पर उभार बना देते है और काफी दर्द का कारण बनते है. ये मवाद से भरे होते है और ठीक होने पर चेहरे पर निशान छोड़ जाते है.

 

Acne kaise hataye? Acne कैसे हटाये?

Acne हटाने के लिए इन चीजों का इस्तेमाल करना चाहिए, जैसे – अलो वेरा, निम्बू का रस, नारियल का तेल, विटामिन-ई आयल, हल्दी और  शहद का उपयोग काफी कारगर साबित हो सकता है.

 

एलो वेरा- एलो वेरा में पाए जानेवाले एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-बैक्टीरियल गुण, एक्ने के दाग से छुटकारा दिलाने में  बहुत मददगार साबित होते है.

एलो वेरा का उपयोग– सबसे पहले एलो वेरा को छिल के उसका गुद्दा निकाल लें और उसे एक्ने वाले भाग पर मले, उसे वैसे ही 30 मिनट तक वैसे ही छोड़ दें और हलके गुनगुने पानी से धो लें. ऐसा दिन में कम से कम दो बार करना चाहिए.

एलो वेरा के इस्तेमाल से चेहरा की त्वचा खिली-खिली सी रहती है.

 

निम्बू का रस- निम्बू का रस में विटामिन-सी की प्रचुर मात्र पायी जाती है और यह एक प्राकृतिक ब्लीच का भी काम करता है.इस से चेहरे पर चमक आती है और त्वचा में निखार बढ़ता है.

निम्बू के रस का उपयोग- ताज़े निम्बुओं से रस निकालने के बाद, उसे कॉटन या रुई की मदद से चेहरे पर 10 मिनट तक लगा के रखें और ताज़े पानी से चेहरे को अच्छी तरह से धो लें. आप इसका उपयोग 2 से 3 बार कर सकते है.

आप इसमें चाहें तो मेडिकल स्टोर पर मिलने वाले विटामिन ई के कैप्सूल का तेल, निम्बू के रस में मिला कर लगा सकते है.

 

नारियल तेल- इसमें प्रचुर मात्र में विटामिन ई और अन्य जरुरी फैटी एसिड उपलब्ध होते है. और यह चेहरे तथा बालों के लिए काफी फायदेमंद होता है,

 

नारियल तेल का उपयोग- शुद्ध नारियल तेल को आप, कॉटन स्वैब की मदद से अपने चेहरे पर लगा सकते है. आप इसे कम से कम चेहरे पर 5 से 10 मिनट तक लगे रहने दें. और हलके गर्म पानी से मुंह धो लें.

 

हल्दी– हल्दी में बहुत से औषधीय गुण होते है, और इसमें त्वचा को ठीक करने की शक्ति भी होती है. हल्दी का इस्तेमाल खाने के मसाले से लेकर दवाओं तक में किया जाता है.

हल्दी का इस्तेमाल– एक चुटकी हल्दी पाउडर को थोड़े से निम्बू केरस में मिलाकर लगाने से पिम्पले और एक्ने जैसी समस्या से छुटकारा मिलता है.

शहद– शहद में बहुत से गुण मौजूद है, इसे आप सीधे अपने चेहरे पर लगा सकते है और पपिम्पल, एक्ने, फुंसी इत्यादि से छुटकारा पा सकते है.

 

 

हमें उम्मीद है यह लेख पिम्पल कैसे हटाये? pimple kaise hataye? आपके लिए बहुत मददगार साबित हुआ होगा, आपको यह पता चल होगा कि पिम्पल कैसे आते है और पिम्पले के कितने प्रकार है तथा उसके इलाज क्या क्या है. हमने इस पोस्ट में जाना कि आप घरेलु तरीकों से कैसे पिम्पल हटा सकते है और अपने चेहरे को पिम्पले, फुंसी इत्यादि से  मुफ्त कैसे बना सकते है. अगर आपके कुछ सुझाव या रिक्वेस्ट है तो हमें जरुरी संपर्क करें और अपने कमेंट्स जरुर छोडें.

Leave a Comment