KYC kya hai? Kaise karein? complete latest info – 2020

KYC क्या है?

KYC का फुल फॉर्म KNOW YOUR CUSTOMER होता है जिसका मतलब होता है अपने ग्राहक को जानें.

kyc kya hai - know your customer
know your customer full information in hindi

यह जानकारी किसी संस्था या कम्पनी द्वारा उसके ग्राहक की जानकारी जैसे – नाम, उम्र, माता-पिता का नाम, निवास पता और कार्यालय पता, आधार कार्ड का नंबर, पैन कार्ड का नंबर इत्यादि जानकारियों  ली जाती है ताकि ग्राहक की ठीक ठीक पहचान की जा सकें और ग्राहक को मिलने वाले लाभ को सिर्फ हक़दार व्यक्ति ही पा सकें, इसलिए KYC किया जाता है.

 

kyc kya hai? kyc kaise karein?

 

इस जानकारी की पुष्टि के लिए कंपनी या संस्था द्वारा एक फॉर्म उपलब्ध कराया जाता है जिसे ग्राहक को सभी सटीक सूचनाएं भर कर, जरुरी दस्तावेज और हस्ताक्षर के साथ जमा करना होता है.

 

kyc complete information in hindi, kyc type, kyc process, central government of india

 

kaise karein KYC? कैसे करें KYC?

यह फॉर्म को सिर्फ एक बार ही ग्राहक या किसी सेवा का लाभ उठाने वाले व्यक्ति द्वारा भरा जाता है, परन्तु कंपनी या संस्था की शर्तों के अनुसार, अधिकृत संस्था या अधिकारी, ग्राहक से सत्यापन के लिए कभी भी उक्त जरुरी दस्तावेज की मांग कर सकते है.

भारत में इस प्रकार के सत्यापन की प्रक्रिया का अस्तित्व सन 2002 में रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया द्वारा प्रस्तुत किया गया और 2005 तक्क इसे सभी बैंकों के लिए अनिवार्य कर दिया गया.

 

KYC कितने प्रकार का होता है? KYC KITNE PRAKAR KA HOTA HAI? HOW MANY TYPES OF KYC ARE THERE?

KYC निम्न रूप से 2 प्रकार के होते है-

  1.  आधार नंबर पर आधारित – KYC
  2. पर्सनल वेरिफिकेशन – KYC

1. आधार नंबर पर आधारित – KYC

इस प्रकार के KYC में व्यक्ति को सिर्फ अपना आधार कार्ड का वेरिफिकेशन अथवा सत्यापन करवाना होता है. इस प्रक्रिया को ऑनलाइन किया जाता है, इसमें आधार संख्या पंजीकृत करवाने के लिए व्यक्ति के रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक OTP(ONE TIME PASSWORD) आता है. इस OTP को सत्यापित करवाने के बाद व्यक्ति का आधार कार्ड, उस व्यक्ति को मिलने वाली सेवा से जुड़ जाता है.

2. पर्सनल वेरिफिकेशन – KYC

इस प्रकार के वेरिफिकेशन प्रक्रिया में व्यक्ति को अपने जरुरी दस्तावेज के ओरिजिनल प्रारूप और ज़ेरॉक्स कॉपी के साथ संस्था या कंपनी के कार्यालय में जाकर आधार संख्या को पंजीकृत करना होता है.

इस प्रकार के आधार वेरिफिकेशन  में व्यक्ति को अपना बायो मीट्रिक डाटा जैसे- अंगूठे  के निशान और आँखों के रेटिना  के का स्कैन लिया जाता है.

kyc full form and kyc meaning in hindi - aapke grhak ko jaanein

KYC के लिए जरुरी दस्तावेज- WHAT ARE THE REQUIRED DOCUMENT FOR KYC VERIFICATION IN HINDI?

  • KYC फॉर्म
  • आधार कार्ड
  • पैन कार्ड
  • ड्राइविंग लाइसेंस
  • मतदाता पहचान पत्र
  • पासपोर्ट फोटो
  • निवास प्रमाण पत्र- टेलीफोन बिल, बिजली बिल या पानी का बिल, राशन कार्ड
  • पिछले तीन महीने का बैंक अकाउंट स्टेटमेंट
  • स्वीकृति प्रमाण पत्र

 

KYC के बारे में अधिक जानकारी के लिए इस आधिकारिक वेबसाइट पर जाएँ.

Leave a Comment